फुटबॉल क्लब पोर्टो के स्टॉपर इकर कसियास ने खुलासा किया है कि उन्हें अफसोस है कि रियल मैड्रिड में उस वक्त के मैनेजर होज़े मोरीनियो के साथ खराब रिश्ते के बाद वह पुर्तगाली कोच से भिड़े नहीं। गौरतलब है कि साल 2010 से 2013 के बीच बर्नबेयु क्लब की कमान संभालने वाले मोरीनियो ने क्लब को एक ला लीगा और एक कोपा डेल रे क्राउन दिलाया था।


भले ही साल 2012 में ला लीगा जीतने वाली उस साइड ने 100 पॉइंट्स बनाते हुए 121 गोल्स दागकर बार्सिलोना को मात दी थी लेकिन इसके बावजूद मोरीनियो स्पैनिश कैपिटल में बहुत ज्यादा पॉपुलर नहीं हो पाए थे। इस दौरान मोरीनियो की ​रियल मैड्रिड कैप्टन इकर कसियास से झड़प भी हो गई थी।

मोरीनियो बार्सिलोना के लिए खेलने वाले स्पैनिश प्लेयर्स के साथ कसियास की नजदीकियों से खफा थे। फोर फोर टू के मुताबिक कसियास को 2012-13 कैंपेन के बीच में ही ड्रॉप कर दिया गया था।


उनकी जगह डिएगो लोपेज़ को मिली थी जबकि अफवाहें फैलने लगी थी कि मोरीनियो और स्क्वॉड के अहम मेंबर्स के साथ हुई अनबन के बाद कसियास उन खबरों के सोर्स थे जो मीडिया में लीक हुई थी।


यूनिवर्स वाल्दानो चैनल वामोस से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, 'उन्हें बार्सिलोना का मुकाबला करने के लिए लाया गया था और उन्होंने आते ही भयानक तनाव का माहौल बना दिया, मेरे साथ उन्होंने तमाम हदें पार कर दी थीं जो मुझे नहीं पसंद। तीसरा साल अच्छा नहीं था।'


'हालांकि हमने ला लीगा जीती थी और ऐसा लग रहा था कि कई लोगों का रिश्ता हिला हुआ है। यह उसके लिए अच्छा नहीं था और न ही मेरे लिए और न ही क्लब के लिए। मुझे लगता है कि अगर ऐसा कुछ दोबारा होता तो मैं मोरीनियो का सामना करता।'


'उस टाइम मैंने उसे इग्नोर करना सही समझा और मैंने सोचा कि रियल मैड्रिड की वैल्यू का सम्मान करने का यही तरीका है। कोई भी मोरीनियो के बारे में बात नहीं करना चाहता था और मुझे लगता है कि हो सकता है कि छोड़ देना बेहतर था।'