मैनचेस्टर यूनाइटेड के मैनेजर होजे मोरीनियो ने एंथनी मार्सियाल, मार्कस रैशफोर्ड, जेसी लिंगार्ड और ल्यूक शॉ की जमकर आलोचना की है। मोरीनियो का मानना है कि इन प्लेयर्स के पास 'कैरेक्टर' नहीं है।


​मैनचेस्टर यूनाइटेड मैनेजर इस सीजन कई बार बोल चुके हैं कि वह अपनी स्क्वॉड के कुछ मेंबर्स के एटिट्यूड से नाखुश हैं और सितंबर में वेस्ट हैम के खिलाफ मिली 3-1 की हार के बाद उन्होंने अपने कुछ प्लेयर्स के रिएक्शन पर कड़ी आपत्ति जाहिर की थी।


लेकिन अब मोरीनियो ने यूनाइटेड के युवा प्लेयर्स पर सीधा हमला करते हुए उन्हें बिगड़ैल बच्चा बताते हुए कहा है कि उन्हें पहले की पीढ़ी के प्लेयर्स की तुलना में आसान माहौल मिला है।

यूनिविजन के साथ एक इंटरव्यू में जब मोरीनियो से पूछा गया कि उनके युवा प्लेयर्स के पास किस चीज की कमी है तो उन्होंने कहा, 'उनके पास मैच्योरिटी की कमी है। और जब मैं मैच्योरिटी की बात करना चाहता हूं तो मेरा आशय बिल्कुल साफ है, मेरा मतलब पर्सनल लेवल की मैच्योरिटी से है। हमारे पास ज्यादा पुरुष थे, हम ज्यादा मैच्योर थे, हम जिंदगी के लिए तैयार थे, हम इतने रक्षात्मक माहौल में नहीं थे।


वे बिगड़ैल बच्चे हैं, आजकल के बच्चों का जीवन अलग होता है, माहौल आसान है और मैं प्लेयर्स के आसपास के लोगों की बात कर रहा हूं। इन लोगों ने उन्हें काफी ज्यादा लाड़-प्यार और बहाने दिए हैं। लोग अब काफी धीरे-धीरे मैच्योर होते हैं। ल्यूक शॉ, उसके पास जबरदस्त पोटेंशियल है लेकिन उसे नहीं पता कि कैसे व्यवहार करना है।


बड़ा पोटेंशियल, जी हां बड़ा पोटेंशियल। हम ल्यूक शॉल, मार्सियाल, लिंगार्ड, रैशफोर्ड की बात कर रहे हैं- युवा, बड़ा पोटेंशियल लेकिन अंततः यह सब ऐसे खत्म होता है जो मैं कह नहीं सकता, लेकिन आप इसे देख सकते हैं... कैरेक्टर, पर्सनैलिटी, उनके पास इसकी कमी है।'