चैंपियंस लीग 2018-19 के किक-ऑफ से पहले ही रियल मैड्रिड ने अपनी झोली भर ली। सैंटियागो बर्नबेयु में इटैलियन क्लब रोमा के खिलाफ उतरने से पहले ही रियल मैड्रिड की टीम 50.7 मिलियन यूरो यानि कि 4 अरब रुपये से ज्यादा की रकम कमा चुकी थी।


​रियल मैड्रिड की यह कमाई UEFA द्वारा क्लब्स को मिलने वाले रे वेन्यू को बढ़ाने और नए रैंकिंग सिस्टम का नतीजा है। नए सिस्टम के हिसाब से ग्रुप स्टेज तक पहुंचने वाली हर टीम को 15.5 मिलियन यूरो की रकम मिलेगी जो पिछले साल से 20 प्रतिशत ज्यादा है।


लेकिन रियल मैड्रिड को इस रकम के अलावा 35.45 मिलियन यूरो और मिलेंगे। रियल मैड्रिड को मिलने वाली यह रकम पिछले एक दशक के रिजल्ट्स और उनके ऐतिहासिक रिकॉर्ड पर आधारित है। UEFA ने एक नया रैंकिंग सिस्टम शुरू किया है जिसमें क्लब्स को 32 से 1 तक रैंक किया गया है।

UEFA ने 585 मिलियन यूरो की रकम को 528 भागों में बांटा है जिसमें से हर शेयर को 1.11 मिलियन यूरो मिलेंगे। रैंकिंग में 32वें नंबर की टीम को 1.11 मिलियन यूरो का एक शेयर मिलेगा, 31वें नंबर की टीम को इसी कीमत के दो। इस तरह से नंबर 1 पर मौजूद रियल मैड्रिड तक पहुंचते-पहुंचते यह रकम 35.45 मिलियन यूरो की हो जाती है।


इतना ही नहीं जो टीम इस टूर्नामेंट में जितना आगे जाएगी उसे उतनी ही ज्यादा रकम मिलेगी। अगर रियल मैड्रिड लगातार चौथी बार यूरोप का चैंपियन बन गया तो उन्हें 117.9 मिलियन यूरो की रकम मिलेगी। स्पैनिश अखबार AS के मुताबिक पिछले सीजन ​चैंपियंस लीग जीतने पर रियल मैड्रिड ने 90.4 मिलियन यूरो की कमाई की थी।