​FT: जर्मनी (ब्रांड्ट 25', शल्ज़ 85') 2-1 पेरू (एडविनक्यूला 22')


डेब्यूटांट निको शल्ज़ द्वारा 85वें मिनट में स्कोर किए गए विनर की बदौलत जर्मनी ने इंटरनेशनल फ्रेंडली में पेरू को 2-1 से हराकर वर्ल्ड कप के बाद अपनी पहली जीत दर्ज करने में कामयाबी पाई।


शल्ज़ का अटेम्ट टार्गेट के बाहर जाता दिख रहा था लेकिन पेरू गोलकीपर पेड्रो गलीसी ने हॉफेनहाइम प्लेयर की ड्राइव को अपने ही नेट में डाइवर्ट किया।

हालांकि पेरू के पहले गोल के लिए शल्ज़ ने गलती की थी और वह लुइस एडविनक्यूला को लेफ्ट-फ्लैंक से रोकने  असफल रहे थे जिन्होंने क्रिश्चियन कुएवा की बॉल पर मार्क आंद्रे टेर-स्टेगन को टाइट एंगल से चकमा दिया।


लेकिन योआखिम लूव की टीम ने तीन मिनट्स बाद यूलियन ब्रांड्ट की चिप की हुई फिनिश से वापसी की और शल्ज़ के लेट विनर से जीत दर्ज कर एक नए एरा की ओर कदम रखा।


भविष्य की ओर देख सकती है जर्मनी 

जर्मनी को मुकाबला जीतने के लिए संघर्ष करना पड़ा लेकिन एक डेब्यूटांट द्वारा मैच विनिंग गोल दागना डी मनशाफ्ट के लिए बड़ा बूस्ट है। रूस की कड़वी यादों को भुलाकर जर्मनी को एक फ्रेश स्टार्ट की जरूरत है और शल्ज़ जैसे भूखे एवं जीत की चाह रखने वाले प्लेयर्स टीम की मदद कर सकते हैं।


ब्रांड्ट ने भी किया प्रभावित 

जर्मनी वर्ल्ड कप में क्रिएटिवटी और फ्लेयर दिखाने में नाकाम रही थी लेकिन यूलियन ब्रांड्ट इसे बदलने में सक्षम हैं। वह लूव की टीम को पेस और डायरेक्टनेस देते हैं और पहले हाफ में अपनी कूल फिनिश से उन्होंने स्कोरशीट में भी जगह बनाने में कामयाबी पाई।

गोलकीपर्स के लिए मुश्किल दिन 

मैनुएल नोएर की जगह आए मार्क आंद्रे टेर-स्टेगन अपने मौके का फायदा उठाने में असफल रहे और ओपनिंग गोल के लिए नियर-पोस्ट में बीट हो गए। वहीं दूसरे एन्ड पर शल्ज़ के कमज़ोर अटेम्प्ट पर ग़लीसी ने अपने ही नेट में बॉल डिफ्लेक्ट की।


अगला मुकाबला?

जर्मनी अब अक्टूबर में नेशंस लीग में नीदरलैंड्स से खेलेगी वहीं पेरू को अगले महीने चिली से भिड़ना है।