​लिवरपूल के बॉस यर्गन क्लौप्प का कहना है कि विश्व के सबसे महंगे डिफेंडर वर्जिल वान डाइक रेड्स के लिए बार्गेन साइनिंग थे और अब कोई भी उनकी कीमत के बारे में बात नहीं करता।


सेंटर-बैक ने बीते जनवरी 75 मिलियन पौंड की ट्रांसफर फीस में साउथैम्पटन छोड़कर लिवरपूल जॉइन किया था और क्रिस्टल पैलेस के खिलाफ बीती रात मिली 2-0 की जीत में वान डाइक को मैन-ऑफ़-द-मैच चुना गया।

और रेड्स मैनेजर ने अपने डिफेंडर के बारे में कहा, "उनका प्रदर्शन बेहद, बेहद, बेहद शानदार था। यह साफ़ है। क्वॉलिटी हासिल करने के लिए आपको एक तय कीमत देनी होती है।


कार का ही उदाहरण लीजिए, जितनी बेहतर कार चाहिए, उतनी अधिक कीमत चुकानी होती है। प्लेयर्स के साथ ही ऐसा ही है। अब कोई भी उनकी कीमत के बारे में नहीं बोलता।


वह मार्केट के ऐसे प्लेयर हैं जिनके लिए बड़ी रकम देना सही है। और अब कई लोगों को लग रहा होगा कि वह बार्गेन हैं। उन्हें हमारे लड़कों के साथ खेलना पसंद है और यह सबसे महत्वपूर्ण चीज़ है।"


मैनेजर ने जीत के बारे में कहा, "मुझे लगता है कि हम बेहतर कर सकते थे, लेकिन हम पैलेस के मजबूत होने की उम्मीद कर रहे थे। वे अपने अप्रोच को लेकर साफ़ थे और उन्होंने काफी लॉन्ग-बॉल्स खेलीं, वार्म-अप में ही मैंने हेनेसी को देखा और सोचा, 'वाह, आज हमें मुश्किल होने वाली है!'

मुझे नहीं लगता कि विश्व में ऐसे ज्यादा डिफेंडर्स होंगे जो क्रिश्चियन बेंटेके के ख़िलाफ बिना फ़ाउल किए डिफेंड कर सकें। वर्जिल आज टीम के लिए बेहद जरूरी थे और उनकी मौजूदगी से हमें काफी फायदा हुआ।"