समर के दौरान रूस में होने वाले वर्ल्ड कप में जर्मनी नेशनल टीम के कोच योआखिम लूव अपनी टीम के साथ बतौर डिफेंडिंग चैंपियन के तौर पर जाएंगे। लूव का इरादा अपने इस क्राउन को बरकरार रखने का है इसलिए उन्होंने टूर्नामेंट के दौरान अपने प्लेयर्स को सेक्स, शराब और सोशल मीडिया नेटवर्किंग से दूर रहने का फरमान सुना दिया है।


स्पैनिश आउटलेट मार्का के मुताबिक जर्मनी लगातार दूसरी बार वर्ल्ड कप अपने नाम कर ऐसा करने वाली सिर्फ तीसरी टीम बनने के लक्ष्य से रूस में खेलेगा। बता दें कि इससे पहले साल 1934 और 1938 में इटली जबकि 1958 और 1962 में ब्राज़ील ने बैक टू बैक वर्ल्ड कप ट्रॉफी अपने नाम की थी।

लूव यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि उनकी टीम हर हाल में रूस से विश्वविजेता बनकर ही लौटे। मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, 'प्लेयर्स हमारे बिहेवियर से काफी फैमिलियर हैं। उन्हें हमारे लक्ष्य के बारे में पता है। हर प्लेयर पज़ल का एक हिस्सा है और टीम व्यक्तियों से ज्यादा महत्वपूर्ण है।'


बता दें कि ​वर्ल्ड कप शुरू होने के बाद जर्मन नेशनल टीम के प्लेयर्स अलग-थलग पड़ने वाले हैं। हालांकि बेड पर जाने से पहले एक ग्लास वाइन लेने की कोई मनाही नहीं होगी लेकिन अधिक मात्रा में प्लेयर्स का पीना बैन होगा। टूर्नामेंट के दौरान सोशल नेटवर्किंग को फालतू चीज़ के तौर पर देखा जा रहा है।


इसके साथ ही टीम होटल और ड्रेसिंग रूम में फोटो लिया जाना पूरी तरह से बैन है। माना जा रहा है कि प्लेयर्स की इन हरकत से टीम की कॉन्फिडेंशियल टैक्टिकल जानकारी के लीक होने का डर है।


बता दें कि इसे मेसुत ओज़िल और इल्काय गुंडोवान द्वारा टर्किश प्रेसिडेंट तैयब एर्डोगन के साथ फोटो शेयर करने से उपजी अनावश्यक नकारात्मक हेडलाइंस को अवॉइड करने का भी प्रयास है।