कोलकाता के सॉल्ट लेक स्टेडियम में आज होने वाले ​संतोष ट्रॉफी 2018 के फाइनल में वेस्ट बंगाल और केरला आमने-सामने होंगे।


कम्पटीशन के 72 साल के इतिहास में ये दोनों सबसे सफल टीमें रही हैं। बंगाल ने जहां 32 टाइटल्स जीते हैं वहीं केरला भी पांच बार की चैंपियन है।


बंगाल ने सेमी-फाइनल में कर्नाटक को 2-0 से परास्त किया था, वहीं केरला ने मिजोरम को 1-0 से मात दी थी। बंगाल को गेम में होम साइड होने का एडवांटेज मिलेगा। 

उन्होंने अपनी साइड एक मजबूत डिफेंस को बेस रखकर बनाई है। बंगाल ने टूर्नामेंट में केवल दो गोल्स कंसीड किए हैं और गोल स्कोरिंग के लिए वे अपने स्टार प्लेयर जितेन मुर्मू पर निर्भर करते हैं।


बंगाल के कोच रंजन चौधरी ने कहा, "हमारी टीम पर किसी तरह का दबाव नहीं है। हमें अपनी काबिलियत पर पूरा भरोसा है और हम फाइनल में केरला को हराने की कोशिश करेंगे।


केरला एक स्ट्रॉन्ग और ऑर्गेनाइज़्ड टीम है। वे डिफेंस में बेहद मजबूत हैं और उनके पास काफी टैलेंटेड प्लेयर्स हैं, जो भी गेम जीतेगा, उसे अच्छा खेलना होगा।"


केरला ने 2005 से ट्रॉफी नहीं जीती है और कोच सथीवन बालन ने कहा, "मैं अपनी टीम की प्रोग्रेस से बेहद खुश हूं। हमने मैच दर मैच इम्प्रूव किया है। हम बंगाला का सम्मान करते हैं, लेकिन मैं जानता हूं कि हम टाइटल जीतने का दमखम रखते हैं।


हम फेवरिट्स नहीं हैं। जब से हम यहां आए हैं, हमने हर गेम को फाइनल की तरह लिया है और बंगाल के खिलाफ  भी ऐसा ही होगा। हम जीत दर्ज करने के लिए अपना बेस्ट देने की कोशिश करेंगे।"