बार्सिलोना लेजेंड आंद्रेस इनिएस्ता ने मैनचेस्टर यूनाइटेड के मैनेजर होज़े मोरीनियो को ला लीगा में उनके वक्त के दौरान रियल मैड्रिड और कैटलन क्लब के प्लेयर्स के बीच नफरत को जन्म देने के लिए जिम्मेदार बताया है। उन्होंने कहा है कि इस चीज़ ने स्पेन नेशनल टीम में भी असहनीय टेंशन को जन्म दे दिया था।


गौरतलब है कि साल 2010 में इंटर मिलान को छोड़ने वाले मोरीनियो ने 3 साल के लिए रियल मैड्रिड की कमान संभाली थी। इस दौरान क्लासिको राइवलरी काफी बढ़ गई थी।


अगस्त 2011 में एक सुपरकोपा डी एस्पाना गेम के दौरान एक मैच के दौरान सबसे उल्लेखनीय घटना हुई थी जब टचलाइन पर हुई झड़प के बीच मोरीनियो ने पेप गार्डिओला के असिस्टेंट टिटो विलानोवा की आंख में अपनी उंगली घुसा दी थी।

मैच के बाद तब मोरीनियो ने विलानोवा को 'पीटो' बताया था जो कि मेल रिप्रोडक्टिव पार्ट के लिए एक स्पैनिश स्लैंग है। उन्होंने दावा किया था कि उन्हें इस बात का कोई इल्म नहीं था कि गार्डिओला का असिस्टेंट कौन था जबकि बार्सिलोना प्लेयर जेरार्ड पीके ने पुर्तगाली कोच पर स्पैनिश फुटबॉल को बर्बाद करने का आरोप लगाया था।


फोर फोर टू के मुताबिक इस दौरान स्पेन नेशनल टीम में ज्यादातर प्लेयर्स रियल मैड्रिड और ​बार्सिलोना से ही आते थे। हालांकि रियल मैड्रिड में मोरीनियो के टर्म के दौरान ही ला रोहा ने साल 2012 में यूरो कप जीता था। इनिएस्ता ने खुलासा किया है कि माहौल काफी जहरीला हो गया था और इसके लिए 'स्पेशल वन का शुक्रिया'


ला सेक्सटा के साल्वाडोस पर बातचीत के दौरान इनिएस्ता ने कहा, 'इस बात को जानने के लिए कि स्थिति सही नहीं थी, आपको बार्सिलोना या रियल मैड्रिड से होने की जरूरत नहीं है। और इस कहानी में अहम किरदार मोरीनियो थे। आप इसे एक स्टैंडर्ड राइवलरी के रूप में नहीं देखते, यह उससे काफी परे था।'


'आपने नफरत देखी। इस माहौल को जन्म दिया गया था और यह असहनीय था। मोरीनियो द्वारा उकसाई गई बार्सा-रियल टेंशन ने नेशनल टीम और टीममेट्स को कई सारे नुकसान पहुंचाए।'