​​रियल मैड्रिड के मैनेजर सैंटियागो सोलारी ने एंटी डोपिंग नियमों को तोड़ने का आरोप झेल रहे क्लब के कैप्टन सर्जियो रामोस को डिफेंड किया है। जर्मन पब्लिकेशन डेर स्पीगल ने फुटबॉल लीक्स की इंवेस्टिगेशन को लेकर कई सारे दावे किए हैं जो कहते हैं कि स्पेन इंटरनेशनल रामोस ने दो बार एंटी डोपिंग प्रोटोकॉल को तोड़ा है।


डेर स्पीगल की रिपोर्ट के मुताबिक पहली बार रामोस ने बीते साल युवेंटस के खिलाफ खेले गए चैंपियंस लीग के फाइनल गेम के दौरान एंटी डोपिंग नियमों को तोड़ा था। इस दौरान उनके यूरिन सैंपल में डेक्सामीथासोन पाया गया था जो एक बैन पदार्थ है।


दूसरी दफा अप्रैल 2018 में मलागा के खिलाफ खेले गए ला लीगा गेम में रामोस ने जानबूझकर एंटी डोपिंग प्रोटोकॉल्स को तोड़ा था। इस ख़बर के खुलासे के तुरंत बाद ही रियल मैड्रिड ने शुक्रवार को एक स्टेटमेंट जारी किया था जो कहता है, 'सर्जियो रामोस ने कभी एंटी डोपिंग कंट्रोल नियमों को नहीं तोड़ा है।'

इधर रामोस ने भी अपने ऊपर लगे इस इल्ज़ाम का पुरजोर विरोध करते हुए कहा था कि यह केवल उनकी छवि और प्रोफेशनल करियर को खराब करने की कोशिश है। फोर फोर टू के मुताबिक रामोस के पास अपने नए हेड कोच सोलारी का सपोर्ट है। उन्होंने इस इल्ज़ाम को झूठा बताया है।


रोमा के खिलाफ होने वाले चैंपियंस लीग गेम से पहले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का हिस्सा बने सोलारी ने कहा, 'रामोस एक ईमानदार इंसान है। वह सिर्फ फुटबॉल के लिए ही नहीं बल्कि स्पेन में खेल के लिए एक महान ध्वजवाहक है। हमें इस तरह की पत्रकारिता से उसका बचाव करना होगा।'


'पत्रकारों को सच की तलाश करनी चाहिए पर वे लोग दूसरों पर झूठा इल्ज़ाम लगाने के साथ ही गलत जानकारी को भी बाहर ला रहे हैं। मैं आपके प्रोफेशन की इज्ज़त करता हूं पर जब इस तरह की चीज़ें होती हैं तब उसके सम्मान में कमी आती है। मुझे लगता है कि हम सभी को सभी के बारे में सोचना चाहिए।'