पूर्व अर्जेंटीना और बार्सिलोना के असिस्टेंट कोच आन्हेल कप्पा ने कैंप नोउ क्लब में लियोनल मेसी की महत्ता को अंडरलाइन किया है। उन्होंने दावा किया है कि मेसी के बगैर बार्सिलोना टेबल में 10वें स्थान पर होता। बता दें कि मेसी ने कैंप नोउ क्लब को ला लीगा में वर्चस्व स्थापित करने में अहम भूमिका निभाई है।


साल 2004 में बार्सा के लिए डेब्यू करने वाले अर्जेंटीनी स्टार ने अबतक 14 में से 9 ला लीगा क्राउन अपने नाम किए हैं। मेसी कैंप नोउ क्लब की फेस वैल्यू बन चुके हैं। कप्पा का मानना है कि अगर अर्जेंटीनी स्टार बार्सा में नहीं होते तो क्लब को इतनी सफलता मिलना नामुमकिन होता।

रेडियो मित्रे से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, 'मेसी के बगैर ​बार्सिलोना 10वें पोज़ीशन पर होता। उसने क्लब को कई सारे मुकाबलों में बचाया है।' गोल के मुताबिक अर्जेंटीना लेजेंड डिएगो माराडोना के कमेंट के बाद मेसी इस हफ्ते काफी सुर्खियां बटोरने में सफल हुए हैं।


गौरतलब है कि माराडोना ने मेसी की लीडरशिप स्किल्स पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था, 'कोच और प्लेयर्स से बातचीत करने से पहले, वह प्लेस्टेशन पर खेलेगा। उसके बाद फील्ड पर लीडर बनना चाहता है। वह दुनिया में क्रिस्टियानो रोनाल्डो के साथ बेस्ट है।'


'मेरे लिए यह कहना मुश्किल है पर एक ऐसे इंसान को टीम की कमान सौंपना यूजलेस है जो एक गेम के पहले 20 बार बाथरूम जाता है। इस बारे में कोई दो रास्ते नहीं है। मेसी को भगवान बनाना बंद करना चाहिए। मेसी अर्जेंटीना का केवल एक और प्लेयर है।'


गौरतलब हैं कि कप्पा माराडोना की बात से सहमत हैं पर उन्होंने कहा है कि मेसी एक इंसान हैं। उन्होंने कहा, 'मैं माराडोना से सहमत हूं। हमे मेसी की पूजा नहीं करनी चाहिए। वह एक मॉर्टल प्लेयर है, बाकी सब मार्केटिंग है। हमें वापस से उसे टीम में बुलाना चाहिए पर इस तरह के गेम्स में उसे बुलाने का कोई सेंस नहीं बनता है।'